एक समय की बात है

एक समय की बात है,
 कोस एक कोस, दूर होते थे
 समय बहुत था सबके पास
 पर साधन पे सब रोते थे।
आज समय ऐसा आया है,
 साधन सब हमने पाया है
 पर समय समय कर रोते हैं
 कोस एक कोस दूर लगते हैं!
एक समय की बात है,
 सड़क न थी जो जाते हम
 पुलिया न थी जो आते तुम।
 घोड़े गाड़ी की कमी रही,
 हा परिजनों की सुधि रही।
आज समय ऐसा आया है,
 तुम तक मुझ तक सड़क हुई,
 छप्पन-भोग आवागमन हुए,
 तुम तक मुझ तक सड़क हुई,
 छप्पन-भोग आवागमन हुए,
 समय की चाल बदल गई!
 वो इंतज़ार के हवाले है...
 आने वाला कोई नहीं।
 आने वाला कोई नहीं।

#time #poem #self #family #distance #hindipoem #pragyamishra8