राहे क़दम 1 मुझे अच्छी लगी

राहे कदम के पहले एपिसोड को फिर से फुरसत में सुना अभी , काफी अच्छी बात पता चली जो मैं कुछ दिनों से समझने की कोशिश कर रही थी कि “रेखता है क्या”।

बहुत साधारण शब्द में शो होस्ट अंकिता जी ने इसका विवरण दिया और मैं रेख्ते के और करीब हो गयी क्योंकि मैं जो बोलती हूँ वो वहीं से आई है। ज्यादा जानने के लिए लिंक विज़िट किया जाना चाहिए क्योंकि शौकिया तौर पर बहुत लोग रेखता फॉलो करते हैं तो पता भी तो हो कि वो है क्या।

इसके बाद जो शेर इस एपिसोड की शुरुआत में बोला गया मुझे बड़ा अच्छा लगा। ये शेर राहे क़दम के मसकद को एकदम सही शुरआत देता है, जो लोग पहले नायाब लिख गए उनको जानने की शुरुआत। इसको गूगल भी किया मैंने और पहली बार रेख्ते की विकिपीडिया पढ़ी।

ये बेहतरीन आइडिया है। मैं बहुत उत्साहित हूँ इसके आगे के एपिसोड के लिए । अंकिता जी की आवाज का ठहराव और मद्धम बैकग्राउंड म्यूज़िक, साथ में रेट्रो लुक की दीवार पर दिग्गजों का कोलाज , फिर परफेक्टली टाइम्ड स्लाइडिंग इमेजेज़ , मुझे प्रस्तुति भी बेहद बढियाँ लगी।

वीडियो में सुना शेर यहाँ भी डाल रही हूँ :

फ़ारसी – उर्दू
ريختہ کے تُم ہی اُستاد نہیں ہو غالِب‬
کہتے ہیں اگلے زمانے میں کوئی مِیر بھی تھا‬

Reḳhte ke tum hī ustād nahīṅ ho ġhālib,
Kahte haiñ agle zamāne meñ koī ‘mīr’ bhī thā

देवनागरी – Hindi
रेख्ते के तुम ही उत्साद नहीं हो ग़ालिब
कहते हैं अगले ज़माने में कोई मीर भी था

Roman – English
You are not the sole grandmaster of Rekhta, Ghalib
They say, in the ages past, that there was one Mir