रूदाली

रूदाली

जब रूदाली पिक्चर आयी थी तब मैं स्कूल में थी। किससे किसका क्या रिश्ता था और कौन क्यों रोये इन सारी बातों की पकड़ कहानी डिकोड करने पर बढ़ी ।उस समय “ओह ओके अच्छा” , की समझदारी में गर्दन हिला दिया था।

रुदलियाँ दहाड़ मार कर रोती हैं। दहाड़ निकालने की ताकत स्वतः आती होगी , आनुवंशिकी है , ये पहले दक्षता, फिर अनुभव, फिर पेशा बनती है और फिर थोप दी जाती है कि तुम्हारा यही काम है ।

Continue reading