Oho! , oh! , Ooh! के मानि 😀

यह oho बहु आयामी है। एक o बढ़ा देने से “ohoo नई बाइक, बढियाँ है” का भाव तैयार हो जाता है।

एक o घटा देने से “oh! तुम्हारा माथा फुट गया” का भाव तैयार हो जाता है।

वहीं RHS का o भी यदि LHS में ही ले लें तो होगा “ooh बाइसेप्स तो देखो इसकी” सरीखा बाइज़्ज़त ताड़ने वाला कॉमेंट जन्म लेता है।

पहला o गायब हो गया तो ” ho ho ho ho ho ho ho ho इश्क तेरा तड़पावे” का सन्दर्भ देने लगेंगे । हटिये नौटंकी सुखबीर भी न।

खैर हमें तो दोस्त की offo भी अच्छी लगती है जी। oho भी अच्छी लगती है जी।

#टाइमनहींहै #तोकुछभी #पासकीजिये #टैमपासकीजीए