कामयाबी

मज़बूत नाखून से आती है
तनाव में चबाते नहीं जब।
तह लगी अलमारी में दिखती है,
कपड़ा लिये उधड़ती नहीं जब।
दिखती है बेझिझक बच्चे में
घर भर में घूमता-फिरता है ,
गिरता है , सीखता है, लिखता है!
नहीं कोई सवालिया डर उसकी आँखों में अब।
बहुत और आनी बाकी है कामयाबी
जैसे समय पर उठना सोना
खाना थोड़ा-थोड़ा बार-बार
खुद पर मेहनत अब नहीं तो कब?

प्रज्ञा