27 जुलाई 2019- दादा जी महाराष्ट्र आये

दादा जी से मिलना हुआ । मैं बार बार तस्वीर ले रही थी तो कहने लगे:

“ई क्या आदत है तुम लोगों का।”

लेकिन जब नब्बे साल से अधिक का जीवंत समय साथ बैठे हों तो तस्वीर लेना बनता है। बहुत खुशी हुई , दूसरी बार दादा जी मुंबई स्थित हमारे अपार्टमेंट में आये। घर शब्द केवल मुम्बई के लिए कैसे लिख दूँ, आजकल सास भी कुशहर में रह रहीं।

एक मज़ेदार बात यह है कि मेरे दादा जी का नाम रूप नारायण झा और ससुर जी का नाम रूप नारायण मिश्र है । अंतर केवल अंग्रेज़ी की वर्तनी में है। दादा जी Roop लिखते हैं। बाबू जी Rup लिखते हैं। खैर।मैंने विंग की लॉबी में पुणे जाने वाली ओला का इन्तिज़ार करते हुए याद किया की दादा जी 1950 में अपने मामा गाँव गए थे इसलिए वो कहते हैं अगला कौआ जनम नहीं होगा।

1998 के अगस्त की बात है, उनकी बहन से राखी आयी तो मैंने पूछा था , “आपकी भी बहन हैं” , दादा जी गर्व से बोले थे हाँ हैं, फिर मामा गाम की चर्चा हुई थी।
आज पूछने पर बताये अभी उनकी सबसे छोटी बहन हैं, लेकिन राखी शायद वहाँ से अब नहीं आ पाती।

इससे पहले दादा जी 2013 में अभिज्ञान के जन्म के एक साल बाद आये थे। तब उनके आने पर मैंने एक कविता लिखी थी। लिंक देखनी पड़ेगी, शतदल ब्लॉग पर ही है। तब से अब तक में मेरे लिखने और बात रखने में बदलाव आया है। दादा जी से सम्भवत: मुंबई में फिर मिलना होगा। कल उन्होंने मेरी आवाज़ में गाने सुने और कविताएँ सुनी।

मैंने राग यमन में आरोह, अवरोह , पकड़ सुनाने के बाद “तोरी रे बाँसुरिया” बंदिश सुनाई।
उन्होंने कहा “अब ई हमको कैसे पता चलेगा तुम सही गायी की गलत गायी”

फिर बोले कुछ फिल्मी गाने सुनाओ तो आजकल अनिता मैडम की क्लास में मैं और अभिज्ञान किशोर दा का लिखा ‘आ चल के तुझे मैं ले के चलूँ ‘ सीख रहे , वो सुनाए। फिर दादी माँ की पसंद का मैथिली गीत “जगदम्ब अहीं अवलम्ब हमर ” सुना कर सभा खत्म हुई।

अभी-अभी शाम में भाँजी आराधना ने चुटकी ली , “मामी, सुर लगाने में नाना जी को रात में दूध देना भूल गयीं कल आप ।”
बात इतनी मज़ेदार तरीके से बोली लड़की ने की सोचा उसे डायरी में शामिल कर ही दूँ ।

हमारी बौद्धिकता हमारी ज़िम्मेदारी।

http://www.kukufm.com पर ऑडियो सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें

कश्मीर से कन्याकुमारी तक बाहें फैलाये हमारे देश में पिछले कुछ हफ्तों में अनेक बातें हो गयीं कहीं पूरा उत्तर पूर्व और बिहार बाढ़ की चपेट में आ गया तो कहीं दक्षिण भारत और महाराष्ट्र के कितने जिले घोर पानी के संकट से जूझ रहे हैं।

फिर देखिए तो तृणमूल को सोनभद्र तक पहुंचने से पहले हवाई अड्डे पर ही रोक दिया गया तो कहीं प्रियंका जी को हिरासत में ले लिया गया । तब मीडिया वालों ने चलाई क्लिप्पिंग जोगी जी के हेलीकाप्टर से उतर कर घटना स्थल पर जाने तक की उसपर एक बढियाँ से लूप लगा दिया कि बार बार जोगी जी जाते दिखायी देते रहे और न्यूज़ चलती रही।
आगे आये कौन भाग किसके साथ भागा जाती बिरादरी , मेरी नाक वगैरह वाले समाचार।

फिर आते हैं खूब रस लेकर देखे गए समाचार जैसे तांबे के बर्तन में फलाना मंदिर पर श्रावण में लोगों ने चढ़ाए दूध तो दूध पड़ गया नीला ।

विज्ञान कहता है की केवल बाहरी चोट या आलसी होकर पड़े रहना ही हमारे न्यूरॉन को नुकसान नहीं पहुंचाता बल्कि अनावश्यक दुख , हिंसा और बेकार के वीडिओज़ देख कर भी जो न्यूरॉन कनेक्शन बनते रहते हैं उससे भी दिमाग को भारी क्षति होती है। बुद्धि प्रभावित होती है ।ऐसे में बहुत आवश्यक होता है की हमें कौन से समाचार की जानकारी रखनी है और क्या नहीं देखना है।

बहुत ज़रूरी है की हमें देश की घटनाओं की जानकारी हो खेल , कला , साहित्य , विज्ञान की जानकारी हो। आपदा से जुड़ी बातों का समाचार प्राप्त हो , नए कीर्तिमान जो भारत ने बनाये उस पर पढ़े सुने । धार्मिक न्यूज़रूम चर्चा देश का भला नहीं करती उससे बचना चाहिए । खुद अपना बौद्धिक स्तर हमको निर्धारित करना चाहिए।

हम भारतीयों को अपने ज्ञान की गुणवत्ता बनाये रखने के लिए बहुत ज़रूरी है ये तय करना की हमको टी वी और अखबार में क्या देखना है और क्या पढ़ना है। हम धर्म के उपासक भर हैं या ज्ञान गुरु हैं और अपने कर्म के स्वयं निर्धारक हैं।

जब अखबार और टेलीविजन आपको ऐसे स्तर कर समाचार परोस रहे हों जो आपको खबर देने की बजाए आपको एक तरह की मनोग्रन्थि से भर दें । ताज़ा सोच पनपने ही न दें उस समय कुकू एफ एम जैसा एक ऑनलाइन रेडिओ का प्लेटफार्म आपको ज़रूर सुनना चाहिए जिससे की आप यदि किताबें न भी पढ़ पा रहे हों तो विचारों में नयापन आये।

समय सबके लिए अलग अलग गति से चलता है, किसी को हराता है, किसी के लिए बदलता है तो किसी का पलट जाता है। हिमा दास की गति पाँच स्वर्ण पदकों के साथ सबको पछाड़ गयी। हिमादास बनना है हमें, आगे बढ़ना है हमें ।

पूरी तरह देसी तकनीक से बना चन्द्रायण , चाँद के दक्षिणी हिस्से पर उतारा हमने और ख़ुद को शुमार किया उन राष्ट्रों में जिन्होंने झंडे चाँद पर गाड़े। हमसे पहले अमेरिका, रूस, जर्मनी और चीन कुल चार ही देश सफलता पूर्वक उतर पाए हैं। ऐसे कीर्तिमान कर्म से हासिल होते हैं ।

पेपर वेपर क्या पढ़ें
कितने मरे कितने गड़े
कितने गड्ढे खुदे पड़े
कहीं नहीं है बौद्धिक विकास की बात
खेल कला साहित्य की खबरें
सब लील गया धार्मिक विवाद
कैसा भी कोई माध्यम हो
आप उठा कर देख लो
जितना घटिया स्तर होगा
लाइक बटोरे ततपर होगा
उतना उसका भाव बढ़ेगा
इंटेलिजेंट बातों का रेट गिरेगा
जनता की सोच का स्तर घटेगा
निर्बाध राज करेंगे नेता सभी
भीड़ से उठ कर सोच विचार
उनको चुनौती कोई देगा नहीं
हमें विचार शून्य करने में उनको तनिक नहीं शर्म है
हम भी हुए ढीठ जानते हैं केवल कर्म ही धर्म है
बाकी सब वोट का मर्म है।
बाकी सब वोट का मर्म है।
पहचानिए क्या ख़बर परोसी जा रही
उतना ही लीजिए जितने में काम की बात हो रही
बाकी सब टी.आर. पी का खेल है
समय बिताने पार्क में जाईये
केहुनी गड़ाए टी वी पर
हिन्दू मुस्लिम के मत घूँट मारिए
खुद की नहीं बच्चों का ख्याल करिये
शांति के दूत ना बनें न सही
बेकार की बकर भी मत पालिये
बच्चे नहीं हैं हम आप
बरगलाने वालों की चाल में मत चलिये

रास्ते -क्षणिका

ऐसे रास्तों से राहत मिलती है, गहरी साँस में सुकून होता है,
यूँ मंज़िल तलाशना भर भी ज़िंदगियों का हासिल होता है।
उम्र सारी कट रही सफर में नहीं किसी दर पे आराम होता है।
अपने सुनाते हैं हरदम कलम से यारी का यही अंजाम होता है।

चित्र साभार – #गूँज #अनामिका_चक्रबर्ती #रविवारीय #क्षणिका

रिश्ते

To listen *download KUKU FM App* now: ऐपलिंक

www.kukufm.com पर यह पॉडकास्ट सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

जहाँ ज़िन्दगी से कुछ न मांगो
वहां टिफ़िन में दही के साथ कोई
याद से चम्मच रखने वाले मिल जाये
तो भी अमीर होने का एहसास होता है।
बोला तो नहीं था पर जैसे मालूम था
की हाथ बढ़ा के चेक करेंगे तो रखा ही होगा।

ऐसे ही होते हैं रिश्ते। अगर पूरा जीवन एक शरीर मान लीजिए तो जीवन में बने सभी रिश्ते शरीर का अंग होते हैं। हर अंग महत्त्व पूर्ण है, सबका अपना कार्य क्षेत्र है, अपनी उम्र है, जितना ध्यान दिया गया उतना स्वस्थ चले।

उनमें से कुछ रिश्ते दिल हो जाते हैं।

Continue reading

छाती में खाना अटकने की स्थिति वाला अनुभव और Heimlich manoeuvre की जानकारी

कृपया इस लिंक को क्लिक करें और फेसबुक पर घूम रही इस वीडियो को ध्यान से देखें इसमें Heimlich manoeuvre का असल समय पर प्रयोग होटल मैनेजर Vasilis Patelakis द्वारा दिखाया गया है।

ठीक ऐसी की घटना मेरे साथ घट चुकी है, यह स्थिती इतनी डरावनी थी की जान पहचान वाले मुझे अब ऑफिस में अकेले खाने बैठने नहीं देते ।एक आध बार जब ऐसा हुआ तो थोड़ी दूर टहल चल कर खाना इसोफेगस से उतर गया, लेकिन एक दिन अती हो गयी काफी देर अटका रह गया और कलीग्स जुट कर अपने स्तर से जो मदद कर सकते थे किए, किसी ने पीठ थप थपायी किसी ने छास या पानी पीने दिया, अंत मे चलना टहलना भी काम आया ।

विडीओ में दिया तरीका किसी को मालूम नहीं था और चोक-ब्लॉक बोलस को भोजन-नली से निकलने में उस दौरान काफी समय लग गया था । सन्जोग से मेडिकल हेल्प आने तक में मैं ठीक हो चुकी थी।

बहुत छटपटाहट वाली स्थिति होती है। उस समय मैंने समझा की सबसे ज़रूरी होता है शरीर को जितना शांत रख सकें उतना शांत हो जाना धीरे-धीरे सांस लेने की कोशिश करना वर्ना घबराहट में जो भी भला हो सकना हो वो भी न होगा। मुझे उल्टी नही हो पा रही थी ऐसा लग रहा था की बोलस के नीचे नली में हवा हो , मैं पीठ सीधी कर एक दम चुप चाप शांत बैठी । बीच में टहली भी लेकिन बिना बात किये एकदम शांत होकर। धीरे-धीरे हल्की डकार आयी , तब तक मे देखने वालों के मुताबिक मेरा चेहरा पूरा लाल पड़ चुका था।डकार आने से मैं पानी पीती, फिर अचानक थोड़ा टुकड़ा निकल आया, थोड़ा इसोफेगस से पास हुआ, जान में जान आयी।

इस घटना के बाद मैंने जल्दी-जल्दी एवं बड़े-बड़े कौर खाना छोड़ दिया, खाने को अधिक देर चबाती हूँ। साथ मे अब बात कम करती हूँ । कम से कोशिश तो रहती है कि बेस्ट प्रेक्टिस फॉलो करूं। सुबह अब खाली पेट नहीं निकलती , निकली भी तो अब खाली पेट कॉफी कभी नहीं लेती क्योंकि ऐसा मेरे साथ तब-तब हुआ जब मैंने अधिक गैप के बाद कॉफी पी ली फिर खाना खाया। लगता था जैसे हवा के कुशन पर जा कर खाना इसोफेगस में अटक गया और पेरिस्ताल्टिक मूवमेंट बोलस की हो ही न रही हो।दो बहुत महत्त्व पूर्ण बातें:

1. मैं यह समझ रही थी की मेडिकल हेल्प आने तक हम में से किसी को नहीं पता की करना क्या है इसलिए सबकी की सुनकर कुछ से कुछ करते जाने से बेहतर शांत रहना है, “शांत रहो , चलो, फिर बैठो, पानी थोड़ा-थोड़ा लेकर उल्टी की कोशिश करो” , “दीपिका ने पीछे से आवाज़ दी थी इसे जो समझ आ रहा है करने दीजिए। इसके साथ ऐसा हुआ है पहले भी।”

2. दूसरी यह की मैं लगातार कल्पना कर रही थी की , जब यह स्थिति टल जाएगी सभी आस पास खड़े लोग ज़रा सर पकड़ कर हँसेंगे । मुझे कहेंगे , ” ध्यान रखा करो” औऱ मैं हँसते डरते वापिस अपने क्यूबिकल में काम करने बैठी हूँ। ईश्वर की कृपा से ठीक ऐसा ही हुआ।

प्रज्ञा

तस्वीर साभार : गूगल

बचपन

जिन सपनीली आँखों में दुनिया समेटी है, वहीं ख़ुशी मिलती है ।

हमारे प्यार की पुड़िया बन्द इनकी छोटी सी मुट्ठी में मिलती है!

जब-जब खुली देखो उड़ी बनकर तितलियाँ खाबों के सिरहाने।

कुछ तस्वीरें विंग की लॉबी से सहेजे बचपन।
शहर का आदमी कितने एंगल ले आएगा ,
कभी मॉल जाएगा कभी मल्टीप्लेक्स
लेकिन इंसानी खूबसूरती को निहारने की कोशिश
कैमरे हज़ारों तरीके से करते आये हैं करते रहेंगे
क्योंकि सम्वेदनाएँ जगह की मोहताज नहीं।

बुलंदियाँ

कोई ला के मुझे दे!
कुछ रंग भरे फूल
कुछ खट्टे-मीठे फल
थोड़ी बाँसुरी की धुन
थोड़ा जमुना का जलकोई ला के मुझे दे!
एक सोना जड़ा दिन
एक रूपों भरी रात,
एक फूलों भरा गीत
एक गीतों भरी बात-
कोई ला के मुझे दे!

आदतन मैं सोने से पहले कुछ बेहतरीन कहानियाँ , दास्तानें और आजकल जॉन एलिया की शायरी भी सुनते सोती हूँ ।

इसमें मेरी सबसे पसंदीदा बात है अमर दास्तानगो अंकित चड्ढा जी की सभी यू ट्यूब वीडिओज़ को ध्यान से देखना और उनकी यात्रा से सीखना की जब आप अन्तर्मन से जीवन-यात्रा के लिए जागते हैं तो जीवन छोटा या अधूरा नहीं होता जितना भी हो अपने पूरा होता है।

Continue reading