एक क्षणिका नटखट बादल पर

हृदय की हरी घनी वादियों में
तुम थे बनकर बादल छाए,
बेसुध में कुछ ऐसे बरसे
सारी पहाड़ी से परिचय कर आये!
जाओ मैं नहीं मिलने आती
ये बूटियाँ लताएं री बड़ी तेज़ हैं
मुझसे पहले वे मिल आतीं।

Read my thoughts on YourQuote app at https://www.yourquote.in/prjnyaa-mishr-zi3v/quotes/hrdy-kii-hrii-ghnii-vaadiyon-men-tum-bnkr-baadl-chaae-besudh-slh2s

Yqhindi – मौसम

दिल का मौसम कब बदलेगा
जब बदलेगा तब बदलेगा,
आज है बारिश तलो पकौड़े
भरसक दो कप चाय चलेगा।

टी.वी. चला के देखेंगे पिक्चर
शहंशाह के डायलॉग बोल कर
नहीं नहायेंगे बस मैगी खाएंगे
कौन-कौन आज साथ जुहू चलेगा!

दिल का मौसम कब बदलेगा
जब बदलेगा तब बदलेगा
पानी पूरी में थोड़ा-तीखा थोड़ा-मीठा
साथ में कांदा भर पेट चलेगा।

पाव भाजी खायेंगे काला खट्टा खाएंगे
बीच पे क्रिकेट के मज़े उठाएंगे
सब दोस्त मिल कर पार्टी शॉर्टी
यारों की यारी में सब बदलेगा
दिल का मौसम अब बदलेगा।

Read my thoughts on YourQuote app at https://www.yourquote.in/prjnyaa-mishr-zi3v/quotes/bhii-jb-bdlegaa-tb-bdlegaa-aaj-hai-baarish-tlo-pkaudddhii-kp-sler0