क्षणिका -उन्मुक्त परिंदे

उड़ान सोच को दीजिये
और हौसले को परवान,
बन के परचम लहराते हैं
उन्मुक्त परिंदे छूते आसमान!