Delhi Police को दिल्ली सरकार के अंदर लाने की माँग कड़ी से कड़ी होनी चाहिए। मौजूदा सरकारी तंत्र हिंदुत्व के गुंडों(ABVP) , (RSS के लठैतों) को संरक्षण देता है और जनता का भरोसा मौजूदा नेतृत्व से खत्म हो रहा है।

मुट्ठी भर प्यादे देश मे डंडा लेकर मार्च करेंगे और भारतीय डर जाएगा यही समझ कर दमन चक्र चालू है। शर्मनाक है कि गाँधी की धरती पर गंदी गाली गलौज की भाषा इतनी व्यापक हो गयी।

वो लोग जिनमे माद्दा ही नहीं JNU जैसी संस्था की परीक्षा पास कर वहाँ पढ़ने का वे इसे बंद करा देना चाहते हैं। ये ही लोग आज हँस रहे हैं । जो हँस रहे हैं वे के कमज़ोर हैं, कायर हैं, उन्होंने जीवन में कुछ हासिल नहीं किया , वे अकर्मण्य रहे और दूसरों पर अपनी असफलताओं ठीकरा फोड़ते रहे हैं। इन लोगों को आज खुले आम छाती पीट कर गुंडई करने का प्रमाण पत्र मिला है कि जाओ रे मार दो हर उस आज़ाद ख़्याल सोच को जो अलग सोचता है।

Opindia जैसे वेबसाइट गलत पत्रकारिता कर रहे हैं। वे एक विशेष धर्म को मानसिक रूप से चोट पहुंचाने की भाषा मे जान बूझ कर घटिया हेडलाइन बनाते हैं।

भारत के प्रधानमंत्री Paytm के ब्रांड अम्बेसडर बनते हैं, बाद , महंगा सूट , महंगा चश्मा का उस परिस्थिति मे प्रदर्शन करते हैं जब उनके ही देश का भविष्य सड़कों पर अपनी वैचारिक स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ रहा है।

अमित शाह और योगी बदले के स्वर में बात करते हैं, कपड़ों से पहचान का घटिया बयान आता है। हिंदुत्वा के गुंडे औरतों से केवल गाली गलौच धमकी वाली भाषा में बात करते हैं। त्रस्त के रख दिया है पूरे देश के आम नागरिक को।

नागार्जुन जी की शासन की बंदूक कविता याद आयी साथ ही याद आयी इंदिरा जी पर लिखे उनके कटाक्ष जिसका प्रयोग एक मित्र ने रचनात्मक ढंग से किया है। नीचे पढ़ सकते हैं-

एक मित्र की फेसबुक वॉल से सहेज कर

मोदीजी क्या हुआ आपको..?
(नागार्जुन की कविता नए कलेवर में)
***************

मोदीजी, मोदीजी, क्या हुआ आपको?
आरएसएस को तार दिया, बोर दिया बाप(जनता) को!
क्या हुआ आपको?
क्या हुआ आपको?

आपकी चाल-ढाल देख- देख लोग हैं दंग
हूकूमती नशे का वाह-वाह कैसा चढ़ा रंग
सच-सच बताओ भी
क्या हुआ आपको

छात्रों के लहू का चस्का लगा आपको
काले चिकने माल का मस्का लगा आपको
किसी ने टोका तो ठस्का लगा आपको
अन्ट-शन्ट बक रहे जनून में
शासन का नशा घुला खून में
फूल से भी हल्का
समझ लिया आपने हत्या के पाप को
मोदीजी, क्या हुआ आपको

सुन रहे गिन रहे
एक-एक टाप को
हिटलर के घोड़े की, हिटलर के घोड़े की
एक-एक टाप को…
छात्रों के खून का नशा चढ़ा आपको
यही हुआ आपको
यही हुआ आपको

#StandWithJNU
#RejectNRC_NPR
#BoycottCAA

कुलदीप प्रसाद जी के विचार आप उनकी प्रोफाइल लिंक पर पढ़ सकते हैं।

तस्वीर साभार : कुलदीप प्रसाद