तो दिल हल्का हो

Read my thoughts on YourQuote app at https://www.yourquote.in/prjnyaa-mishr-zi3v/quotes/jis-baat-ko-jii-kr-aage-itnaa-aa-gye-ab-us-pr-bhs-kyaa-ho-ek-06swl

क्षमा

मैंने यह महसूस किया है, रचना करने की ऊर्जा के क्रम , या कला को साधने के क्रम में लेखक / लेखिका या कलाकार कुछ और ही हो जाते हैं , फिर थोड़ी देर बाद आम आदमी के शरीर मे लौटते से उनकी सभी दुर्बलताएँ वापस आ जातीं हैं।

Continue reading