साल 2017 में बेबो के जन्मदिन पर बिंदु दी के घर, मुद्रा फ्रेम्स के जिस फोटोग्राफर का आना हुआ था, उन्होंने यह तस्वीर ली थी जो बाद में दीदी ने फारवर्ड की। यहाँ मैं छः महीने के अंशुमन को गोदी में लेकर पार्टी में एक साइड खड़े हो ये देखने के लिए मुड़ी थी की अभिज्ञान क्या कर रहा है, तभी कैमरा क्लिक हुआ होगा।

तस्वीरें वॉट्सऐप से बैकअप होकर लैप्टॉप के फ़ोल्डरों में दब जाती हैं। मेरी व्यस्तता मुझे उन्हें डेवलप कराने का समय भी नहीं देती। अभिज्ञान के पिता जी ने क्लास में उस समय कलर प्रिंटर लगवाया था। तो एक प्रिंट मेरे लिए निकाल लाये थे वहीं उपलब्ध A4 size में।

यही तस्वीर बची रही ।

ये उस मोमेंट का एक रंगीन प्रिंटआउट है ।