अपराधी पेड़ पर नहीं उगते
बचपन से तैयार किये जाते हैं
कुंठित कुपोषित मनोग्रन्थियों
से सुसज्जित समाज की
वंश बेल तले
वे पिलाये जाते हैं घूँट घृणा के
धीरे-धीरे थोड़ा-थोड़ा रोज़-रोज़
भोलापन बालमन उसका शैशव
सब सोख लिया जाता है
स्वार्थ की अमरबेल तले।

तस्वीर साभार गूँज वाट्सप समूह