बड़ी दादी का बीज मंत्र

इस फ़ोटो में हैं मेरी बुआ “पिंकी पिसी” और दादी माँ की मम्मी , यानी पिंकी पिसी की नानी माँ, मेरी बड़ी दादी माँ।

बड़ी दादी माँ विदूषी थीं , बड़े दादा दी के साथ स्वंतत्रता सेनानी थीं। आज सुबह, रमन क्रिएशन वाले वाट्सप ग्रुप पर मुन्ना अंकल फ़ोटो साझा किए। सुंदर स्मृतियाँ कौंध गयीं। पटना – पूर्णियाँ – बचपन – बड़ी दादी माँ की रहस्मयी मुस्कान।

कभी विस्तार दिया जाएगा मन में बसी इन छवियों को। एक घटना बताने का लालच उमड़ रहा-

किसी दोपहर बड़ी दादी माँ ने मुझे पास बुलाया और कहा ,

“जो पान लगा क आन।”

मैं पान ले आयी। मुझे मेरी दादी माँ के पान के डाला में से पान लगा कर देना आता था।

खाते खाते वो बोलीं:

“एत बैस”

मैं बैठ गयी।

उनके शब्दों के बीच का अंतराल भी सुखद होता था।

फिर उन्होंने मुझे कहा:

“तोरा एकटा मंत्र दय छियो , याद राखीहें”

हौले हौले उनके कोमल पैर दबाते, अपना माथा घन्टा घड़ी के जैसे टिक टोक टिक टोक हिला कर सुनने के लिए ततपर थी:

उन्होंने कहा –

” जत लोक कानय(रोएं), ओत नय रही”

मेरी प्रश्नवाचक प्रतिक्रिया थी- “अच्छा?!”

मेरे चेहरे के भाव देख वे समझ गयीं की कक्षा आठ की बच्ची को बहुत समझ नहीं आया। वो मुस्करा कर सो गयीं।

“आब जो एतबे रहौ, अपना सँ बूझ , हमरा सूत के छौ”

बीज मंत्र की तरह यह पंक्ति मेरे अंदर घूमती रही। साल 1998 से 2014 तक सुप्त अवस्था में मेरे अंदर मेरी बुद्धि की रक्षा करता रहा यह मंत्र। जुलाई 2014 के बाद जब मैं द सीक्रेट, यू केन हील योर लाइफ, सब्कांशस माइंड, आदि किताबों के सम्पर्क में आयी तो मुझे झटका सा लगा, जैसे मेरे भारत का कण कण गीता है और दुनिया कितनी प्यासी , मैं एक गिलास शर्बत मिलने को तृप्त होना समझ रही यहाँ पूरी गंगा मुस्करा रही है कि तू अबोध थी इसलिए तुझे मेरा महत्त्व अब तक पता नहीं था। बस इतना ही कहूँगी। इसका अर्थ वे ही समझ सकेंगे जिसको समझना है । यह बहुत विवादित मंत्र है यद्द्पि गूढ़ है। मैं साझा कर रही हूँ क्योंकि यही मुझे मेरी आज की स्थिति तक लेकर आता है। इस उध्दरण को सुनने के बाद मैंने कुछ भी पलट कर नहीं देखा न मेरा बचपन , न बचपन के लोग, न व्यथा, न पीड़ा, न एकाकीपन। मुझे उपहार स्वरूप सुंदर जीवन मिलता रहा। अशीर्वाद युक्त कलकल बहती धारा के समान। ईश्वर देते गए मैंने हाथ पसारे ग्रहण किया , प्रसाद मना थोड़ी करते हैं। इतना स्वादयुक्त ईश्वर के प्रसाद सदृश्य मीठा और सुगंधित जीवन, वहीं रहना है, वहीं बसेरा करना है, यही इस मंत्र का सार है।

प्रणाम दादी माँ।

One thought on “बड़ी दादी का बीज मंत्र

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.