लोग बहुत मेहनत से फॉरवर्ड कार्ड भेजते हैं, डिलीट मार देने में माया लगता है। कितना सुन्दर जेपीजी पीएनजी होता है न। जिसे एक स्लाइड बनाने में प्राण छूटे उसे पता होता है कि कैसे बनते होंगे ये ई-कार्ड्स, लोक लुभावन डिज़ाइन बना लेना उचित कलर कॉम्बिनेशन यूज करने में भी बड़ा भारी टेलेंट है। सोचती हूँ फेसबुक के पास तो बहुते स्टोरेज है, उसपर रहेगा तो चार लोग देखेंगे, मौका पर आशीष भी मिलेगा, हार्ड डिस्क में डालने जैसा फोटो हड़ायेगा भी नहीं। यही है सही। अझुका फ़ोल्डरे बना देलिये मतलब आज के नाम का फोल्डर बना दिया।

हैप्पी दशहरा।

दशहरे का सही सार लंबे समय तक बना रहे। आज बुराई पर अच्छाई के जीत का उत्सव है।

फेसबुक ट्विटर पर मीम और रावण को सम्मान देने की होड़ है, एक चलन है आज इस साल दसरा पर कि रावण में लाख बुराई थी लेकिन…… फिर इसे लोग तरह तरह से पूरा कर रहे। होड़ हो गयी है।

कहीं जाना नहीं है, गरबा भी नहीं है। इंतज़ार करना है, दिन के समाप्त होने का। 2020 हर त्योहार में अपना फन फैलाये बैठा है। 2020 शेषनाग है।

समय है तो वाट्सअप पर आए सभी संदेशों को गौर से देखा। यह भी कितना अद्भुत है कि तकनीकी विकास ने त्योहारों को डिजिटल रूप से काफी पुष्ट किया। ये छोटे छोटे स्लाइड्स वाकई ख़ूबसूरत हैं। इन पर लिखे सन्देश भी सुंदर हैं। हर कोई अपनी तरफ से सबसे बढियाँ भेजने का प्रयत्न करते है ।कुछ लोग अपने व्यापार के कार्ड्स पर बधाई संलग्न कर के भेजते हैं, वह भी अच्छा।

इनके डिज़ाइन आइडियाज और ब्रेंडिंग दखिये, फॉन्ट , कलर कॉम्बिनेशन कितने सराहनीय। मैंने अपने ब्लॉग के लिए बैनर बनाना शुरू किया है और कितना समय लगता फिर भी बात यस नो तक ही रहती , wow फैक्टर तो कभी न आया। ये सभी पोस्टर जो वाट्सप पर आते हैं मैने तो इनसे इरिटेट होना बंद कर दिया। सबकुछ डिज़ाइन आइडिया है।

हैप्पी दसरा ।

कहीं से एक नवजात बच्ची की तस्वीर आयी है, उसे उसके पेरेंट्स ने दुर्गा बनाया है, ये ठीक उसी तरह का है जैसे एक DIY विडियो में ट्रैफिक काटते काटते देखा था कभी। उसे फेसबुक पर दसरा के फोल्डर में डाल दिया । यह अद्भुत लग रही है। सबने पसंद भी खूब किया। शेर की कटिंग है, हाथ बनाये हैं , फिर बच्ची के ऊपर ऐसे डाला है कि माता अवतारिणी प्रतीत हो रहीं। अच्छी बात ये लगी की बच्ची सोई नहीं। खिल के हँस रही है। मतलब कितना जतन लिया होगा पेरेंट्स ने।

3.15 PM के करीब बहुत अच्छी ख़बर मिली।

दिल अज़ीज़, छोटी बहन जैसी प्यारी दोस्त को आज ही बेटी हुई है। उसने वाट्सप पर ख़बर दी । बहुत खुश हूँ।

कभी कभी जीवन में हम अपना महत्त्व भूल कर अचानक निराशा के घेरे में जाने लगते हैं तब कोई ऐसा मिलता है जो हमें बताता है कि कैसे हम उनकी प्रेरणा बने, कैसे हमारी कही कोई बात उनके काम आयी, और कैसे अनजाने मार्गदर्शक की तरह देखा उन्होंने हमें। ऐसे लोग प्राण ऊर्जा से कम नहीं होते।

ये दोस्त मेरे लिए ऐसी ही एंजेल है। अचानक से क़ई दिन बाद किसी सलाह के लिए मेसेज कर देती कि अरे प्रज्ञा मैम , आपसे कुछ बात करनी है और मेरा ही मन हरा भरा कर जाती है।

प्यारी लड़की , माँ दुर्गा तुम्हें और तूम्हारी बेटी स्वस्थ रखें अपने कवच में रखें। परिवार तुम्हारा खुशहाल रहे।

फोवर्डेड शुभकामनाओं का दौर जारी है।

क़ई लोग अनजाने ही ब्रॉडकास्ट मारते हैं , और क़ई भूले बिसरे मित्र लपेटे में आते जाते हैं, लेकिन देखा जाए तो हमने भी उनकी खोज ख़बर नहीं ली होती है, त्योहार के बहाने कुशल क्षेम तो दिख गयी। न भी टोकें पूछें तो डी पी से वर्तमान का हाल समाचार समझ आ जाता है। किसी के दूसरा बच्चा हो गया, कोई और खाता पिता लगने लगा, किसी ने जबरदस्त फिटनेस बना ली। सभी मित्रों परिजनों का जीवन माँ दुर्गा अपने कवच में सुरक्षित रखें।

ई-शुभकामनाएं, अंतिम बैच

सभी को धन्यवाद , बच्चों को राम रावण के बारे में वही बताया जो सिलेबस में पढ़ते आये हैं ।भविष्य में वे फेसबुक पर जाने क्या क्या नैरेटिव सुनें अक्का-सँ-चक्का कर के मूँह बाए मिथक का इतिहास खंगाले, उसमें अभी पंद्रह बीस साल लगेंगे ।

घरे बैठे रहे। बहुत अच्छा लगा बहुत आनंद आया। आराम से सोए जागे पूजा हुई । घर में सबके साथ हैं, जंत्री कल भोर में कटेगा। गरबा मिस किए, नौ दिन नौरंगा बन के फोटो खींचने का अवसर 2020 नहीं दिया, कोई बात नहीं, अगले साल 2021 में उम्मीद है ग्रह नक्षत्र बदल जाएंगे।

आज बुराई का दहन हो गया, अब अगले साल होगा, बुराई भी ऊर्जा है, ट्रांसफॉर्म होती है खत्म नहीं होती। उसको रहना पड़ता है, बार बार आना पड़ता है। अच्छाई की वैल्यू बताने के लिए । वर्ना सबकुछ जो नॉर्मल है, अच्छा है, स्थिर है, हमेशा हमेशा टेकन फ़ॉर ग्रांटेड ही लिया जाएगा।

शुभरात्रि।