मेरा कोविड वेक्सिनेशन अनुभव सुखद रहा। न तो मुझे कड़ी धूप और लंबी कतार में खड़ा होना पड़ा न किसी भी कर्मचारी का बुरा व्यवहार ही झेलना पड़ा। मैं टाटा ग्रुप की एक कम्पनी में कार्यरत हूँ। यह समूह अपने लोकोपकारी कार्य प्रणाली के लिए जाना जाता है और मुझे उम्मीद भी थी कि यहाँ की एसोसिएट होने के नाते मेरा औऱ मेरे परिवार का कोविड वेक्सिनेशन भी इन्ही के माध्यम से हो जाएगा। ठीक ऐसा हुआ भी।

हमें अपने साथ होने वाली तमाम अच्छी बातों का विवरण लिख कर रखना चाहिये जिससे हम अपने कष्टों के साथ साथ जीवन मे मिले उपहारों को भी पहचान सकें।

जब देश मे वेक्सिनेशन उपलब्ध होने की सूचना जारी हुई तो क्रमबद्ध चरणों मे मेरे एमपलॉयर ने भी अपने इम्प्लॉई को वैक्सीनेट किये जाने की सूचना बिना देर किए जारी कर दी। टाटा कंसल्टेंसी संस्थान ने न सिर्फ अपने तीन लाख कर्म चारी को वैक्सीनेट करने की मुहीम चलाई है बल्कि समूचे टाटा ग्रुप के लोग इससे लाभान्वित हो रहे हैं। यह निश्चय ही बड़ी जनसंख्या है।

एक स्थिर बहुराष्ट्रीय कंपनी एक स्थिर देश मे ही रहती है इसलिए भारत को एक स्थिर देश बनाने में जिन जिन लोगों का खून पसीना लगता है उन सबको प्रणाम क्योंकि मैं ये भली भांति समझती हूँ नागरिक सुख केवल नागरिक के कारण नहीं बल्कि इसके पीछे एक पूरा सिस्टम है जो सुचारू रूप से चल रहा है। देश में क़ई दुर्भाग्य पूर्ण घटनाओं के होने के बावजूद मैं आशा की एक किरण थाम कर रखने में विश्वास रखना चाहती हूँ।

कम्पनी के तमाम सभी लोगों के लिए वेक्सीनेशन रिनिस्ट्रेशन की लिंक एक निश्चित समय सीमा तक खोली गयी। रेजीस्ट्रेशन के समय कोविन रेफरेंस ID को ज़रूरी नहीं रखा गया। रेजिस्ट्रेशन की पद्धति बहुत आसान बनाई गयी। हमें केवल अपना नाम अपने परिवार के सदस्य का नाम और जिस ब्रांच ने वेक्सीनेशन लेनी है उस जगह का नाम भरना था। मई के मध्य तक यह लिंक फ्रीज़ कर दी गयी।

रेजिस्ट्रेशन के दो हफ़्तों के भीतर सभी एम्प्लोयी को कन्फर्मेशन आने शुरू हो गए। पूरी प्रणाली को अत्यंत असान और पारदरर्शी रखा गया। ईमेल या IVR आने के बाद हमें कम्पनी के वेक्सिनेशन पेज पर जाकर अब रजिस्ट्रेशन कन्फर्मेशन देनी थी।

27 मई की शाम को मैं काफ़ी व्यस्त थी क्योंकि महीने के अंत में काम काफ़ी बढ़ जाता है। मुझे लगतार एक नम्बर से कॉल आ रही थी जिसे मैं अनदेखा करती जा रही थी।

अचानक मैने कॉल यूँ ही उठा ली। समझा तो कोई IVR था। मैं ओफ्फोह करते से फ़ौरन फोन रखने वाली थी कि मुझे अपने ऑफिस ब्रान्च का नाम सुनाई पड़ा और मैं चौकन्नी हो गयी।
समझ आया कि 28 मई 3 PM को उक्त स्थान पर हमारी वेक्सीनेशन की डेट है और हमें कहीं पर कन्फर्मेशन देनी है।

शायद किसी सिस्टम चूक की वजह से हो सकता है मुझे ईमेल न आई हो पर यह IVR तो कम्पनी से ही था। मैंने फौरन अपने ऑफिस से लोगों को मेसेज कर आगे की प्रणाली पूछी । सबने बताया कि मुझे अब हमारी कम्पनी के पोर्टल जा कर कन्फर्मेशन देनी है कि मैं वेक्सिनेशन लेने जाऊंगी।

मैंने ऐसा ही किया। तब तक मेरे हसबेंड भी अपने ट्यूटोरियल के बच्चों को पढ़ा छुट्टी पा चुके थे। हम साथ रेजिस्ट्रेशन कन्फर्मेशन को बैठे और आगे के प्रोसेस चैलेंजेज़ समझे।

आगे का विवरण अगले भाग में –