टाटा कंसल्टेंसी के जिस ऑफिस परिसर में 28 मई 2021 को लगभग 1000 लोग कोविड वेक्सीनेशन के लिए एकत्रित हुए उसका विवरण न किया गया तो मेरा वेक्सिनेशन अनुभव अधूरा रहेगा।

मुम्बई सबर्ब के अंधेरी में 22 एकड़ भूमि में फैला, पुराने पेड़ों से भरा, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज का यह परिसर Banyan Park यानी बरगद पार्क कहलाता है। इस परिसर का आर्किटेक्चर और वनस्पति यहाँ का मुख्य आकर्षण है। यहाँ 34 से भी अधिक पक्षियों की प्रजातियां पायी जाती हैं।

Banyan Park परिसर में बहुत सारे और वर्षों पुराने बरगद के पेड़ है। सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और बर्ड वाचिंग बिना किसी दिक्कत सह-अस्तित्व में हैं, प्रकृति और पुरूष के बेहतरीन सामंजस्य का उदाहरण। साथ ही यहाँ पर काफी ऐतिहासिक दुर्लभ सम्पत्ति है, ब्रिटिश काल से पुराने बंगले , जिन्हें समकालीन विला की सौंदर्य शब्दावली में उनके जीर्ण-शीर्ण से सावधानीपूर्वक बहाल किया गया है और आधुनिक सुविधाओं के साथ रिस्टोर किया गया है। #गुन्दावली एवं #सरोश कोलोनियल बंगलो को स्टेट ऑफ आर्ट तकनीकों से नये रुख में ढाला गया है। इस कार्यालय का रेस्टोरेशन और आधुनिकीरण किया है Somaya and Kalappa ने जिनके आधिकारिक वेबसाइट पर आप इस ऑफिस की झलक ले सकते हैं और बेहतरीन काम देख सकते हैं।

सोमैया कलप्पा लिखते हैं कि परियोजना के पीछे प्रेरणा थी की गुन्दावली के इस जगह की अपनी पुरानी दुनिया की वनस्पतियों के साथ एक ऐसा नय जादुई स्थल निर्मित करना जहां आगंतुक पत्थरों और ईंटों से ऊपर उठ कर सौंदर्य का आनंद ले।

टीसीएस Banyan Park ने 2007 में इंडियन हेरिटेज सोसाइटी का अर्बन हेरिटेज अवार्ड जीता।

इतना सब कुछ लिखना ज़रूरी इसलिये की ज़िंदगी को मैं इस सुंदर रिसोर्ट जैसे ऑफिस में लाकर पटक देने के लिये हमेशा थेँक्यू करती हूँ। कोरोना के आने पर ऑफिस छूटने का दुःख है क्योंकि 2017 के बाद मेरे साहित्यिक जीवन की शुरुआत ही इसके पेड़ पौधों के बीच घूमते हुई थी। दूर से दिखता तिलिस्मी गुन्दावली का विला जहां जाना वर्जित था और जहां बस कस्टमर विजिट होती है वो जगह वहां मौजूद 1000 लोग उस दिन नहीं देख सकते थे पर ज़ाहिर है सबने उस परिसर की भव्यता का आनंद तो लिया ही होगा। या शायद नहीं भी क्योकि वेक्सिनेशन की जबड़ टेंशन में कोई परिसर क्या ही निहारेगा।

इस परिसर में मेरे कदम साल 2014 में Agile Methodology की ट्रेनिंग के लिए पहली बार पड़े थे फिर मुझे इस जगह से प्यार हो गया इस जगह ने मुझे आकर्षित कर लिया था और साल 2017 में मुझे इस जगह पर काम करने का मौका मिला। ये सब #lawofattraction ही है मेरे लिए।

Somaya and Kalappa की वेबसाइट का लिंक कॉमेंट सेकशन में रहेगा।

क्रमश:

Somaya and Kalappa