ये हैं वीर दास कमेडियन के शब्द जिनके लिए उनपर केस हुआ है।

सनद रहे एक कमेडियन जितना ज़मीन के नीचे होता है उससे कहीं ज़्यादा वो ज़मीन के भीतर होता है। हास्य तब तक उत्पन्न नहीं होता जब तक विषमताओं को न देखा हो। भारत का बहुमत इस समय हद से ज़्यादा जड़ है, इसका मतलब ये नहीं कि डर कर लोग बोलना बंद कर देंगे। आज की तारीख में हर बोलने वाले ने सोच लिया है “जो होगा झेल लेंगे लेकिन हम बोलेंगे भी और विरोध भी दर्ज करेंगे”। अगर आप जड़ भारतीय हैं तो आप ज़रूर वीर दास से असहमत होंगे।


मैं एक उस भारत से आता हूं, जहां बच्चे एक दूसरे का हाथ भी मास्क पहन कर पकड़ते हैं, लेकिन नेता बिना मास्क एक-दूसरे को गले लगाते हैं।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां AQI 9000 है लेकिन हम फिर भी अपनी छतों पर लेटकर रात में तारे देखते हैं।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में उनका गैंगरेप हो जाता है।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम ट्विटर पर बॉलीवुड को लेकर बंट जाते हैं, लेकिन थियेटर के अंधेरों में बॉलीवुड के कारण एक होते हैं।
मैं एक ऐसे भारत से आता हूं, जहां पत्रकारिता ख़त्म हो चुकी है, मगर पत्रकार एक दूसरे की वाहवाही कर रहे हैं, और महिला पत्रकार सड़कों पर लैपटॉप लिए बैठी हैं, सच्चाई बता रही हैं।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां हमारी हंसी की खिलखिलाहट हमारे घर की दीवारों के बाहर तक आप सुन सकते हैं।
और मैं उस भारत से भी आता हूं, जहां कॉमेडी क्लब की दीवारें तोड़ दी जाती हैं, जब उसके अंदर से हंसी की आवाज़ आती है।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां बड़ी आबादी 30 साल से कम उम्र की है लेकिन हम 75 साल के नेताओं के 150 साल पुराने आइडिया सुनना बंद नहीं करते।
मैं ऐसे भारत से आता हूं, जहां हमें पीएम से जुड़ी हर सूचना दी जाती है लेकिन हमें पीएमकेयर्स की कोई सूचना नहीं मिलती।
मैं ऐसे भारत से आता हूं, जहां औरतें साड़ी और स्नीकर पहनती हैं और इसके बाद भी उन्हें एक बुज़ुर्ग से सलाह लेनी पड़ती है, जिसने जीवन भर साड़ी नहीं पहनी।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम शाकाहारी होने में गर्व महसूस करते हैं लेकिन उन्हीं किसानों को कुचल देते हैं, जो ये सब्ज़ियां उगाते हैं।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां सैनिकों को हम पूरा समर्थन देते हैं तब तक, जब तक उनकी पेंशन पर बात ना की जाए।
मैं उस भारत से आता हूं, जो चुप नहीं बैठेगा।
मैं उस भारत से आता हूं, जो बोलेगा भी नहीं।
मैं उस भारत से आता हूं जो मुझे हमारी बुराइयों पर बात करने के लिए कोसेगा।
मैं उस भारत से आता हूं, जहां लोग अपनी कमियों पर खुल कर बात करते हैं।
मैं उस भारत से आता हूं, जो ये देखेगा और कहेगा ‘ये कॉमेडी नहीं है.. जोक कहाँ है?’
और मैं उस भारत से भी आता हूं, जो ये देखेगा और जानेगा कि ये जोक ही है। बस मज़ाकिया नहीं है।

– Veer Das