Pragya Mishra Quotes मैं मुंबई में हूं, ऑटो में हूं, हल्की बारिश है, और ट्रैफिक भी, लेकिन बातें लीची और आम के बगीचे की कर रही हूं , साथ में याद कर रही हूं कि ऐसी बारिश को पूर्णिया, बिहार में हम लोग झिस्सी कहते थे और इसमें छतरी लेकर कोई नहीं निकलता था। बातचीत का यह मीठा टुकड़ा एक क्लोज़ कैबिनेट है जिसका पूरा इकोसिस्टम दिमाग में रहता है।