शतदल

जो मराल मोती खाते हैं, उनको मोती मिलते हैं।

Category: मैथिली लोक साहित्य

2 Posts