टॉप 10 ब्लॉगर 2019 – प्रज्ञा मिश्रा जी से साक्षात्कार By The Sahitya | Editor- September 29, 2019

अपनी साहित्यिक यात्रा के दौरान पिछले वर्ष मिली इस उपलब्धि को ब्लॉग में लिंक सहित सहेज रही हूँ।

iblogger साक्षात्कार

टॉप 10 ब्लॉगर 2019 – प्रज्ञा मिश्रा जी से साक्षात्कार
By The Sahitya | Editor- September 29, 2019

प्रज्ञा मिश्रा जी 2018 से ब्लॉगिंग कर रहीं है। पाठकों की प्रतिक्रियाओं के आधार पर आपको टॉप 10 ब्लॉगरों में शामिल किया गया था। पिछले दिनों प्रज्ञा जी से साक्षात्कार किया गया था। पेश है साक्षात्कार के प्रमुख अंश-

iBlogger : Top 10 Blogger the Year की सूची में अपना नाम शामिल होने पर आपको कैसा लग रहा है?

प्रज्ञा मिश्रा : बहुत खुशी है, सम्मान से प्रोत्साहन मिला है , ब्लॉग को और बेहतर बनाने की दिशा में सोचने की ऊर्जा मिली। लोगों की शुभकामनाओं का असर ऐसा है कि मन बहुत लिखने पढ़ने को प्रेरित हो रहा। अधिक से अधिक पढ़ने की इच्छा जाग्रत हुई है क्योंकि लिख सभी रहे हैं तो उसमें खुद को अलग खड़ा करने के लिए मधुमखियों जैसे अलग अलग साहित्य पुष्पों से पराग उठाने हैं और फिर उससे अपना शहद तैयार करना है।

iBlogger : Top 10 Blogger में आने के लिए सबसे पहले किसे शुक्रिया कहना चाहेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : सबसे पहले मैं अपनी माता जी सरोज स्मृति को शूक्रिया करना चाहूंगी क्योंकि मेरा ब्लॉग उनके स्मरण में उनके नाम के पर्यायवाची की पर रखा गया है और माँ का जीवन मुझे स्त्री विमर्श पर लिखने की प्रेरणा देता है। वे अनवरत लिखती थीं, औऱ बेहद अलग सोचती थीं।

iBlogger : आपकी नज़र में सफल ब्लॉगर की क्या खूबियां होनी चाहिए। क्या आप स्वयं को भी सफल ब्लॉगर मानते हैं?

प्रज्ञा मिश्रा : एक सफल ब्लॉगर के पास अपने विचार होने चाहिए, नानाप्रकार के जीवनानुभव से वो भरा हुआ होना चाहिए या तो पढ़ कर या यात्राएं कर। तकनीकी ज्ञान परम् आवश्यक है ताकी रुचिकर विसुअल्स बलॉग सौंदर्य का भी ख्याल रखे। उसका सोशल कनेक्ट बढियाँ होना चाहिए। ब्लॉग को लिख कर भूले नहीं उसे खुद भी बीच बीच मे पढ़ता सुधरता रहे। लेखन का स्तर रुचिकर बनाने के साथ साथ अपने अन्तर्मन से भी ईमानदारी बरते। एक सफल ब्लॉगर सब कुछ वो ही नहीं लिखते जो दुनिया पढ़ना चाहे, वे दुनिया को नया आईना दिखाने का माद्दा रखते हैं। मैं अपने आप को सफल ब्लॉगर मानती हूँ।

iBlogger : आप अपने ब्लॉग पर किन विद्याओं में ज्यादा लिखते है?

प्रज्ञा मिश्रा : मेरे ब्लॉग पर अधिकतर हिंदी कविताएँ हैं।

iBlogger : आप ब्लॉगिंग के क्षेत्र मे कैसे आये?

प्रज्ञा मिश्रा : कार्यालय में एक मित्र ने सुझाव दिया की अपने काम को एकत्र करने और बड़ी जनसंख्या तक पहुंचने का माध्यम ब्लॉग है तो इस तरह उन्ही की सहायता से ब्लॉग बनाया और 2018 से ब्लॉगिंग की दुनिया मे सक्रिय हूँ ।

iBlogger : अब तक के ब्लॉगिंग सफर में किसी परेशानी का सामना करना पड़ा? यदि हां तो वह क्या रही?

प्रज्ञा मिश्रा : कार्यालय के काम से समय निकाल नियमित ब्लॉग पर अच्छे कंटेंट के साथ बने रहना एक चैलेंज है परन्तु यही उत्साहित भी रखता है।

iBlogger : ब्लॉगिंग के लिए आप समय कैसे निकालते है?

प्रज्ञा मिश्रा : लिखने की शुरुआत मुंबई के ट्रफिक में पनपती झुंझलाहट को कम करते करते हुई, यहीं समय मिला सोचने का नोटस में लिखने का फिर सिलसिला घर पर सप्ताहांत में बढ़ा। धीरे धीरे जो लिखती गयी वह ब्लॉग में साझा किया। अब ऑनलाइन रेडियो कुकू एफ एम में अपने चैनल के लिए लिखती हूँ और साथ ही उसका ब्लॉग भी नियमित बनाती हूँ।

iBlogger : आप वर्तमान में ब्लॉगिंग के अलावा क्या कर रहे है?

प्रज्ञा मिश्रा : मैं ब्लॉगिंग के अलावा ऑनलाइन रेडियो कुकू एफ एम http://www.kukufm.com में अपने आधिकारिक चेनल शतदल पर हिंदी पॉडकास्ट करती हूँ, बुधवार रात दस बजे। इसके अलावा मैं हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में रुचि रखती हूँ और सीख रही हूँ ।

iBlogger : क्या आपकी ब्लॉगिंग या लेखन को लेकर भविष्य की कोई योजना है?

प्रज्ञा मिश्रा : बिल्कुल, मैंने “शतदल” नाम से एक किताब की रूपरेखा मन में बनाई है जिसमें मेरी कविताएँ और अब कविताओं के जन्म का सफर विवरण होगा। ररेडियो पॉडकास्ट और मेरा ब्लॉग शतदल उसी सपने के लिए खनिज की तरह हैं।

iBlogger : नये ब्लॉगरों के लिए आप क्या कहना चाहेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : खूब पढ़ें, ब्लॉग पर नियमित रहें, ध्यान और योग करें, अपने होने के मकसद को लगातार खोजें।

iBlogger : क्या आपके जीवन की कोई घटना या प्रसंग जो आपके लिए यादगार रही हो और उससे आपको नई सीख मिली हो, हमारे पाठकों के साथ शेयर करेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : एक बार मैं अपने बच्चे को स्कूल छोड़ने निकली तो बहुत तेज़ बारिश आयी, सामने एक महिला हमारे परिसर से कार लेकर निकल रही थी तो मैंने उनसे मदद मांगी और बच्चे को बारिश से बचा स्कूल भेजा। उसी वक्त घर पैदल लौटते समय मुझे एक महिला और उसका बच्चा दिखे जिनके पास छतरी नहीं थी, वह महिला अपनी तीन वर्षीय बेटी को गोद में उठा तेज़ कदम से चल रही थी की बारिश से बच जाए। यद्दपि मुझे मेरा घर पास ही था और कार्यालय के लिए देर भी ही रही थी पर उस समय मुझे उस महिला और उस बच्ची की मदद करना ज़रूरी लगा, मैं दोनों को उनके गन्तव्य तक पैदल साथ चल, छतरी में लेकर छोड़ आई। किसी ने मेरी सहायता की और मुझे किसी और की मदद कर असीम सन्तोष मिला। यह घटना परोपकार के लिए प्रेरित करती है। आखिर हम लिखते भी तो हैं खुद से ईमानदार होने के लिए।

iBlogger : iBlogger और अपने ब्लॉग के सम्मानित पाठकों को आप क्या संदेश देना चाहेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : आप बेहतरीन हैं, हिंदी के लिए उत्तम कर रहे, धन्यवाद।

iBlogger : हमारे लिए आप क्या सुझाव देना चाहेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : हिंदी ब्लॉगिंग की दुनिया में और बेहतरीन करने के लिए कृपया एक्सपर्ट वेबिनार आयोजित करायें और सभी सदस्यों को लाभान्वित कराएं। हिंदी की विधाओं पर आधारित प्रतियोगिता भी रख सकें तो कृप्या ज़रूर रखें। वार्षिक iBlogger सम्मेलन का आयोजन उत्साहवर्धक होगा।

iBlogger : अगले वर्ष के लिए होने वाले Blogger of the year 2020 के लिए कोई सुझाव देना चाहेंगे?

प्रज्ञा मिश्रा : इंडिया 2020 विषय पर आधारित विभिन्न चयनित विषयों पर लिखा एक ब्लॉग प्रतियोगिता के लिए अनिवार्य करें।

आपने iBlogger को अपना कीमती समय दिया, इसके लिए हम आपके तहेदिल से आभारी है।