शतदल

जो मराल मोती खाते हैं, उनको मोती मिलते हैं।

Mentza Raag Legacy 13 March ,11AM

Link to circle – join to listen

Join Channel Host Pragya Mishra on a live conversation circle exploring Raag Bhupali Introduction and singing with the Arts, Culture & Media community.
Time: 13 Mar, 11:00 IST

13 मॉर्च की राग लेगासी कार्यक्रम की रूप रेखा
एंकर द्वारा कार्यक्रम का शुभारम्भ, निमिषा जी को
राग भूपाली का परिचय देने के लिए आमंत्रण

निमिषा खंडेलवाल
राग भूपाली का परिचय आरोह अवरोह पकड़ और एक सरगम गीत

एंकर द्वारा प्रदीप भरद्वाज जी का परिचय और आंमत्रण
कांची रे कांची रे … हरे रामा हरे कृष्णा…. किशोर कुमार
ये हवा ये हवा … गुमराह… महेन्द्र कपूर

एंकर द्वारा आख्या जी को आमंत्रण
राग भूपाली बन्दिश गायन

एंकर द्वारा लक्ष्मी चौहान को निमंत्रण
लक्ष्मी चौहान – “दिल हूम हूम करे ” गीत का गायन
गुरु जी द्वारा बनायी बन्दिश का गायन

निमिषा सिंहल का गायन
सेहरा पिक्चर का हसरत जयपुरी द्वारा लिखा –
पंख होते तो उड़ आती रे रसिया ओ जालिमा
छात्रों के लिए इस राग से रिलेटेड 8 गानों की सूची बतायेंगी निमिषा जी

लक्ष्मी जी द्वारा एक खास डेडिकेडेट दो लाइन ग़ज़ल की पेशकश के बाद कार्यक्रम का समापन।

Link: https://on.mentza.com/circles/12227

Speak or Listen in. Share your stories. Pick people’s brains!
Use the same link to access the recording after the live circle.

Link to 6th March circle – click here

Check out this recording of a 20min live conversation from the Raaga Legacy channel in the Arts, Culture & Media community.

Episode: Raag Yaman Introduction Part 1
Link: https://on.mentza.com/circles/11443

6 march

यह आज का कार्यक्रम है ,

30 minutes to go……

ज़रूर जुड़िए…. Mentza पर । यहाँ खुद भी पार्टिसिपेट किजीये, ये आपकी आवाज़ आपका हुनर मात्र बिस मिनट में दुनिया के सामने रखने वाला community ऑडियो प्लेटफॉर्म है।

Agility, Stay Contextual, Stay Minimal , Stay Inclusive की दुनिया में happiness comes in twenty minutes packet है mentza ♥️

नमस्ते सभी को आज हमारा साप्ताहिक कार्यक्रम है , गायकों ने राग यमन आधारित गीत का चयन किया है।


कुल समय – 20 मिनट , एक्स्ट्रा 5 मिनट

एंकर – 3 मिनट का इंट्रोड्क्टरी समय

आख्या सिंह जी , दिल्ली से

  1. अभी न जाओ छोड़ कर
  2. आयत

एंकर द्वारा आमंत्रण

लक्ष्मी चौहान जी, देहरादून से-
गायन।

  1. चंदन सा बदन
  2. नाम गुम जाएगा

एंकर द्वारा आमंत्रण

निमिषा सिंघल जी, आगरा से

  1. आज जाने की ज़िद ना करो
    (राग यमन आधारित एक छोटा वाकया साझा करते हुए ग़ज़ल गायन)
List
%d bloggers like this: